जब व्हीलचेयर पर नेशनल अवॉर्ड लेने पहुंची थीं Surekha Sikri, गूंजने लगी तालियों की गड़गड़ाहट

बाल विवाह पर आधारित पॉपुलर टीवी शो धरावाहिक ‘बालिका वधू (Balika Vadhu)’ से दादी सा के रूप में घर-घर में फेमस हुईं Surekha Sikri का निधन हो गया है. उन्होंने 75 साल की उम्र में इस दुनिया को छोड़ (Surekha Sikri Passes Away) कर चली गयी. शुक्रवार 16 जुलाई की सुबह हार्ट अटैक आने से उनका निधन हो गया. वह लंबे समय से बीमार चल रही थीं और बहुत बार उन्हें हॉस्पिटल में भी भर्ती रहना पड़ा. 2020 में सुरेखा सीकरी (Surekha Sikri) को दूसरी बार ब्रेन स्ट्रोक आया था जिसके चलते वह कुछ दिनों तक अस्पताल में भर्ती रही. सबसे पहले उन्हें 2018 में पैरालाइटिक स्ट्रोक आया था जिसके बाद से ही उनकी तबीयत खराब चल रही थी.

साल 2018 में Surekha Sikri को फ़िल्म ‘बधाई हो’ के लिए नेशनल अवॉर्ड से दिया गया था. फिल्म की रिलीज के बाद उन्हें ब्रेन स्ट्रोक हुआ, जिसके बाद अपना पुरस्कार लेने के लिए Surekha Sikri व्हीलचेयर में पहुंची थीं. जब वह व्हीलचेयर पर अवॉर्ड लेने पहुंचीं तो उन्हें सम्मान देने के लिए लोगों ने खड़े होकर तालियां की गड़गड़ाहट की थीं. अवॉर्ड मिलने के बाद Surekha ने कहा था कि मैं दिल से बहुत खुश हूं और मैं अपनी यह खुशी दोस्तों और परिवारवालों के साथ मिलकर मनाऊँगी.

ब्रेन स्ट्रोक के कारण उन्हें लकवा मार गया था. Surekha Sikri को ब्रेन स्ट्रोक होने के बाद कई तरह की समस्या होने लगी थी . स्वास्थ्य सम्बंधी समस्याओं के चलते उन्हें काम करने में भी दिक्कत आने लगी थी. जिसके चलते उन्हें आर्थिक समस्याओं का भी सामना करना पड़ा.

उनके दमदार अभिनय और कठिन परिश्रम के चलते आज Surekha Sikri को हम सभी भली भांति जानते हैं. सुरेखा सीकरी फिल्मों और टीवी के साथ ही थियेटर में भी काम कर चुकी है और अपने एक्टिंग का छाप वह छोटे पर्दे से लेकर बड़े पर्दे तक छोड़ गई है . Surekha जी को तीन बार Best Supporting Actress के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार भी दिया गया था. जिसमे से फ़िल्म तमस (1988), मम्मो (1995) और बधाई हो (2018) में रिलीज हुई थी।

श्याम बेनेगल बोले- ‘वे सही मायने में आला दर्जे की Actress थीं’
बेनेगल ने पीटीआई-भाषा से कहा, ‘वह इतनी शानदार और कौशल अभिनेत्री थीं कि उन्हें जो भी किरदार दिया जाता वह उसमें पूरी तरह से घुल मिल जाती थीं. उन्होंने सहानुभूतिपूर्ण और गैर सहानुभूति वाली दोनों तरह की भूमिकाओं को बहुत ही अच्छी तरह से निभाया है . वह सही मायने में आला दर्जे की अभिनेत्री थीं.’ उन्होंने यह भी कहा की , ‘थिएटर कलाकारों के साथ एक खूबी यह भी होती है कि वे बेहद अनुशासित होते हैं और Surekha भी बेहद अनुशासित थीं. वह अपनी पूरी तैयारी के साथ सेट पर शूटिंग के लिए आती थीं. वह कभी अपना समय बर्बाद नहीं करतीं थी. वह एक मेहनती अभिनेत्री थीं. वह किसी भी फिल्म के लिए बड़ा खजाना थीं.’ बेनेगल ने कहा कि कैमरे से बाहर वह ‘बेहद शांत’ स्वभाव की थीं.

नीना गुप्ता ने 2018 की फिल्म ‘बधाई हो’ में सुरेखा के किरदार की बहू की भूमिका निभायी थी. उन्होंने कहा कि अभिनेत्री के निधन की खबर सुनकर उन्हें बहुत दुख हुआ. नीना गुप्ता ने इंस्टाग्राम पर वीडियो संदेश के जरिये कहा, ‘आज सुबह यह दुखद समचार मिला कि सुरेखा सीकरी अब हमारे बीच नहीं रहीं. मैं आप सभी से अपना दुख साझा करना चाहती हूं. उनके निधन की खबर से बहुत दुख हो रहा है.’

नीना गुप्ता ने राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय (एनएसडी) के दिनों के दौरान Surekha के अभिनय को देखकर मंत्रमुग्ध होने की बात कही. उन्होंने कहा, ‘मुझे याद है जब मैं एनएसडी की छात्र थी तो कैसे हम लोग छुपकर उन्हें अभिनय करते देखते थे. मैं भी सोचती थी कि मैं उनकी तरह ही अभिनेत्री बनूंगी. यह बहुत साल पहले की बात है.’ ‘बधाई हो’ से पहले Surekha और (Nina Gupta) नीना गुप्ता टीवी सीरियल ‘सात फेरे-सलोनी का सफर’ में एक साथ काम कर चुकी हैं. ‘बधाई हो’ फ़िल्म में आयुष्मान खुराना, गजराज राव और सान्या मल्होत्रा भी थीं जिसके लिए Surekha को तीसरी बार सर्वश्रेष्ठ Supporting Actress के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार मिला था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *